Home national हिमाचल को शिक्षा हब बनाया तो बढ़े शिक्षा, रोजगार व व्यवसाय के...

हिमाचल को शिक्षा हब बनाया तो बढ़े शिक्षा, रोजगार व व्यवसाय के अवसर: धूमल

72
0
SHARE

पूर्व मुख्यमंत्री ने नादौन के दंगड़ी में आर्यन पब्लिक स्कूल में वार्षिक पारितोषिक वितरण समारोह में नवाज़े होनहार

जनवक्ता ब्यूरो हमीरपुर
हिमाचल को शिक्षा हब बनाया था तब प्रदेश में शिक्षा, रोजगार और व्यवसाय के अवसर बढ़े थे| पूर्व मुख्यमंत्री प्रो० प्रेम कुमार धूमल ने नादौन के दंगड़ी में आर्यन पब्लिक स्कूल के वार्षिक पारितोषिक वितरण समारोह के अवसर पर बतौर मुख्यतिथि अपने सम्बोधन में यह बात कही| उन्होंने इस मौके पर नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा प्रस्तुत किये गये सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रसंशा कर बच्चों और अध्यापकों को बधाई दी| वार्षिक परीक्षाओं और अन्य गतिविधियों में अच्छा प्रदर्शन करने वाले बच्चों को प्रो० धूमल ने पुरुष्कार भी बांटे|
प्रो० धूमल ने अपने सम्बोधन में कहा कि हिमाचल को शिक्षा का हब बनाने की प्रेरणा श्रद्धेय अटल जी ने दी थी| तब हमने 16 यूनिवर्सिटी निजी क्षेत्र की प्रदेश में स्थापित की थीं| बहुत दुष्प्रचार कुछ लोगों ने कहा कि हिमाचल ओन सेल है| लेकिन हकीकत यह थी की हमने एक इंच भी जमीन किसी संस्थान को नहीं दी| प्रदेश के और बाहर के लगभग 18 हज़ार बच्चों ने उस समय ही इन संस्थानों से शिक्षा ग्रहण शुरू कर दिया था| अन्यथा पहले बच्चों को बाहर के राज्यों में शिक्षा प्राप्त करने जाना पड़ता था| प्रदेशवासियों को रोजगार व व्यवसाय के अवसर भी बढ़े थे| प्रदेश के 1964 सरकारी स्कूलों को 13672 कमरे बना कर दिए थे| मात्र तीन साल में हर स्कूल को तीन तीन कमरे बना कर दिए थे|

पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल का स्वागत करते स्कूल प्रबंधन समिति के सदस्य व अध्यापक

पूर्व मुख्यमंत्री ने शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि जीवन में शिक्षा का लक्ष्य केवल किताबी ज्ञान प्राप्त करना अथवा परीक्षा पास कर सर्टीफ़िकेट प्राप्त कर नौकरी पाने के योग्य होना नहीं बल्कि व्यक्तित्व के निर्माण है| विद्यार्थी जब विद्यालय आता है तो वह कुम्हार के पास कच्ची मिटटी के समान होता है, उस कच्ची मिटटी को कुम्हार स्वरुप प्रदान करता है और विद्यार्थी को शिक्षक| अध्यापक बच्चे के जीवन में संस्कार डालकर, उनके अंदर जो योग्यता छिपी है उसको निखार कर, उन्हें जिन्दगी की सभी परीक्षाओं का सामना करने के लिए तैयार करते हैं| मानव जीवन में सदा परीक्षाएं आती रहती हैं| शिक्षा का उद्देश्य बच्चे के व्यक्तित्व का चहुमुखी विकास होना चाहिए| बच्चा पढ़ाई में अच्छा हो, खेलों में अच्छा हो और सांस्कृतिक गतिविधियों में भी अच्छा हो,

सम्पूर्ण नागरिक बने| उन्होंने ख़ुशी जताते हुए कहा कि आर्यन पब्लिक स्कूल इस दिशा में अच्छा काम कर रहा है|
प्रो० धूमल ने कहा कि शिक्षा उपलब्ध कराने और इसका विस्तार करने में निजी क्षेत्र का बहुत योगदान है| सरकारी स्कूलों में शायद इतने स्तर तक बच्चों को सुविधा नहीं उपलब्ध हो पाती| कई जगह स्कूलों को अपग्रेड कर प्लस टू तक किया गया है पर कहीं साइंस लैब नहीं है कहीं खेल मैदान नहीं है| शिक्षा का विस्तार करने में दिए गये योगदान के लिए निजी क्षेत्र साधुवाद का पात्र है| बच्चों में प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करने में निजी क्षेत्र अपनी भूमिका निभा रहा है| एक संस्थान दुसरे संस्थान से प्रतिस्पर्धा करता है| क्या प्रतिस्पर्धा के रूप में एक सरकारी स्कूल दुसरे सरकारी स्कूल से बेहतर परिणाम लाने का प्रयास करता है|

सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करते आर्यन पब्लिक स्कूल के बच्चे

प्रो० धूमल ने समाज में बढ़ रहे नशे के खतरे से आगाह करते हुए कहा कि आज की युवा पीढ़ी को नशे की गिरफ्त में फंसे से बचाने के लिए अध्यापक वर्ग ही नहीं बल्कि माँ-बाप के साथ साथ समाज के बुद्धिजीवी वर्ग को आगे आना होगा| मानव समाजिक प्राणी है| हम सबको समाजिक जिम्मेवारी का निर्वाह करना चाहिए| बच्चों को नशे से बचा कर हम देश के उज्जवल भविष्य को बचा पायेंगे| वो समय था जब कहा जाता था कि किसी देश को तबाह करने के लिए भी कहा जाता था उस पर परमाणु बम गिरा देंगे तो वह तबाह हो जाएगा| लेकिन आज किसी देश की युवा पीढ़ी को यदि नशेड़ बना दिया जायेगा तो वह देश स्वयं ही तबाह हो जाएगा| नशेड़ युवा पीढ़ी बरबाद होकर देश को भी तबाह कर देगी| बहुत बड़ा षड्यंत्र हमारे देश में भी रचा जा है| संस्थानों के बाहर नशा बांटा जा रहा है या फिर बिक रहा है|
पूर्व सीएम ने कहा कि शिक्षा संस्थान अपना काम कर रहे हैं, माँ-बाप और समाज भी अपना दायित्व निभाएं| शिक्षा का विस्तार तो हो रहा है लेकिन इसकी गुणवत्ता बनी रहनी चाहिए| प्रो० धूमल ने विशवास जताया कि हमने अगर समाजिक कुरीतियों पर काबू पा लिया तो निश्चित तौर पर आने वाले समय में शिक्षा का बहुत बड़ा केंद्र बनेगा|
इस अवसर पर पूर्व विधायक विजय अग्निहोत्री, अजय शर्मा, चंदु लाल चोधरी, राज कुमार वर्मा, रघुवीर सिंह, डॉ अशोक शर्मा, अनीता गर्ग, नीलम चोधरी, स्कूल का प्रबन्धन, अध्यापक वर्ग, विद्यार्थी और उनके अभिभावकों सहित स्थानीय लोग मौजूद रहे|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here