Home national राज्यपाल ने किया तीन दिवसीय 50वीं पुलिस खेलकूद प्रतियोगिता का शुभारंभ

राज्यपाल ने किया तीन दिवसीय 50वीं पुलिस खेलकूद प्रतियोगिता का शुभारंभ

42
0
SHARE

कहा…..खेलों से जीवन में समर्पित भाव से काम करने की भावना होती है विकसित

जनवक्ता ब्यूरो धर्मशाला
राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने आज धर्मशाला के नेताजी सुभाष चन्द्र बोस पुलिस मैदान में तीन दिवसीय 50वीं पुलिस खेलकूद एवं कर्तव्य परायण प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि खेलों के आयोजन का मुख्य उद्देश्य जवानों को स्वस्थ और निरोग रखना है ताकि उनमें अपने स्वास्थ्य के प्रति प्रेमभाव जागृत हो। उन्होंने कहा कि पुलिस जवानों का जीवन हमेशा व्यस्त रहता है तथा ये जवान दिन-रात अपनी डयूटी के प्रति सजग रहते हुए हम सभी को सुरक्षा प्रदान करते हैं।
राज्यपाल ने कहा कि खेलकूद मानव जीवन में अपने कर्तव्य के प्रति बोध को जागृत करने और अनुशासन की भावना को प्रगाढ़ करने में सहायक होती हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी प्रतियोगिताओं के आयोजन से जहां खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित करने का बेहतर अवसर मिलता है वहीं जीवन में तनाव को कम करने में मददगार होती हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस जवानों के लिए शारीरिक रूप से स्वस्थ होना अति आवश्यक है तभी वे अपने कार्य को पूरी कर्तव्य निष्ठा से करने में सक्षम होंगे।
आचार्य देवव्रत ने कहा कि ऐसे आयोजनों से राज्य के विभिन्न जिलों के खिलाड़ियों में एक साथ मिल कर टीम भावना से अपने विभाग के प्रति समर्पित भाव से काम करने की भावना विकसित एवं सुदृढ़ होती है। उन्होंने कहा कि पुलिस बल के जवानों से समाज को अपेक्षा रहती है कि वे अधिक संवेदनशील एवं कर्मठ हों। उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन जहां पुलिस को संवेदनशील एवं कर्मठ बनाने में मदद करते हैं वहीं पुलिस को समाज के ज्यादा नजदीक लाने में भी मुख्य भूमिका अदा करते हैं।
उन्होंने कहा कि पुलिस बल के कुछ उभरते हुए खिलाड़ी राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर नये कीर्तिमान स्थापित कर रहे हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस बार भी ये खिलाड़ी नई ऊंचाइयों को छूने का प्रयास कर प्रदेश को विश्व के मानक पटल पर ले जाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

कहा….शून्य लागत प्राकृतिक कृषि प्रणाली ही श्रेष्ठ साधन

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि देवभूमि हिमाचल को वर्ष 2022 तक जहरीली खेती से पूरी तरह मुक्त बनाने और किसानों की आय को दोगुना करने के लिए शून्य लागत प्राकृतिक कृषि प्रणाली ही श्रेष्ठ साधन है। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक

कृषि रासायनिक तथा जैविक कृषि का बेहतर विकल्प तो है ही, साथ ही यह प्रणाली सुरक्षित भी है और

स्वस्थ जीवन जीने में सहायक एवं पर्यावरण मित्र है।
राज्यपाल ने अपने संबोधन में कहा कि प्राकृतिक खेती न केवल खाद्य सुरक्षा प्रदान करती है बल्कि कई अन्य मायनों में भी सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि रासायनिक तथा जैविक खेती का पुराना चलन वर्तमान परिप्रेक्ष्य में उचित नहीं है। जहां तक रासायनिक खेती का सवाल है, जहरीली तथा हानिकारक होने के साथ-साथ इसके उत्पाद मंहगे भी हैं। इससे किसान की लागत भी बढ़ती है, जिससे उसे मुनाफा नहीं होता, बल्कि व्यक्ति के स्वास्थ्य एवं पर्यावरण पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। उन्होंने प्राकृतिक खेती को अपनाने के लिए भारतीय नस्ल की गाय को पालने का आग्रह किया।

राज्यपाल का आह्वान… ‘नशामुक्त हिमाचल बनाने का लंे संकल्प’

इस अवसर पर राज्यपाल ने सभी से नशामुक्त हिमाचल बनाने का संकल्प लेने का आह्वान किया। उन्होंने पुलिस विभाग द्वारा नशे की रोकथाम के लिए चलाए गये प्रदेश व्यापी अभियान की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि प्रदेश को पूर्ण रूप से नशामुक्त बनाने के लिए सरकार एवं प्रशासन की ओर से किए जा रहे प्रयासों मंे सभी लोगों का सक्रिय रचनात्मक सहयोग आवश्यक है ताकि नशे की समस्या को जड़ से समाप्त किया जा सके और युवा पीढ़ी के भविष्य और जीवन को बचाया जा सके।
इस मौके पर प्रतियोगिता के आयोजन समिति के अध्यक्ष एवं पुलिस महानिदेशक सीता राम मरड़ी ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा पुलिस विभाग की उपलब्धियों को मुख्यातिथि के समक्ष रखा। इस दौरान उन्होंने मुख्यातिथि को सम्मानित किया।
इस दौरान आयोजन समिति के सचिव एवं उप पुलिस महानिरीक्षक उत्तरी क्षेत्र डॉ. अतुल फुलझेले ने कार्यक्रम में पधारने पर सभी अतिथियों का धन्यवाद किया।
इस अवसर पर भाग लेने वाले खिलाड़ियों द्वारा भव्य मार्च पास्ट का भी आयोजन किया गया। इस मौके पर पुलिस बल के जवानों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये गये।
गौरतलब है कि तीन दिवसीय इस स्पोटर््स मीट में राज्य पुलिस विभाग के 500 खिलाड़ी वॉलीबॉल, हैंडबॉल, बास्केटबॉल, फुटबॉल, कबड्डी, एथलेटिक्स, लॉन टेनिस तथा बैडमिंटन की स्पर्धाओं में अपना दमखम दिखाएंगे। इस प्रतियोगिता में प्रदेश पुलिस की सैन्ट्रल यूनिट, मध्य रेंज, दक्षिणी रेंज तथा उत्तरी रेंज की टीमें भाग ले रही हैं।

प्रतियोगिता की ऋंखला में राजकीय महाविद्यालय धर्मशाला के त्रिर्गत सभागार में सांस्कृतिक प्रतियोगिताएं भी आयोजित होंगी।
इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अशोक तिवारी, पुलिस महानिरीक्षक सशस्त्र पुलिस एवं प्रशिक्षण हिमांशु मिश्रा, पुलिस महानिरीक्षक राज्य गुप्तचर विभाग दलजीत सिंह, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष पटियाल, एडीसी केके सरोच, एसडीएम धर्मेश रामोत्रा सहित बड़ी संख्या में पुलिस तथा प्रशासन के अधिकारी, कर्मचारी तथा अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here