Home national फोरलेन विस्थापित समिति पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. धूमल को सौंपेगी मांग पत्र –रामसिंह

फोरलेन विस्थापित समिति पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. धूमल को सौंपेगी मांग पत्र –रामसिंह

56
0
SHARE

भाजपा के दृष्टिपत्र में उनसे किए गए वादे को पूरा करने की करेगी मांग

जनवक्ता डेस्क बिलासपुर
किरतपुर – नेरचौक फोरलेन विस्थापित समिति ने कहा है कि 20 जनवरी को पूर्व मुख्यमंत्री प्रोफेसर प्रेमकुमार धूमल के बिलासपुर आगमन के मौके पर वे उन्हें अपनी मांगों ,कठिनाइयों और समस्याओं का एक विस्तृत ज्ञापन सौंपेंगे और मांग करेंगे कि पिछले विधान सभा चुनावों से पहले उनसे किए गए वादे और भाजपा के चुनावी दृष्टिपत्र के अनुसार और उन्हें उनकी अधिगृहीत की गई भूमि का फेकटर दो के अधीन चार गुना मुवावजा दिया जाये । समिति के अध्यक्ष रामसिंह ने कहा कि किसानों से उनकी भूमि और घरबार जबरदस्ती छीन लिए गए और उन्हें उनकी पुसतेनी भूमि का बहुत कम मुवावजा देकर उन्हें अपने भाग्य पर जीने को छोड़ दिया गया है । उनके परिवारों को नियम और कानून के अधीन दिये जाने वाले लाभों से भी पूरी तरह वंचित रखा गया है । एक्ट के अनुसार विस्थापितों के जीवन –यापन के लिए हर विस्थापित परिवार के एक एक सदस्य को दिये

जाने वाली नौकरी का कोई प्रबंध नहीं किया गया है जबकि पिछले पाँच वर्षों से उनकी सभी मूलभूत सुविधाएं भी छीन ली गई हैं । उन्होने कहा कि सड़क निर्माण के कारण गरामौड़ा से लेकर नेरचोक तक सड़क को तहस नहस कर दिया गया है और इस सारे क्षेत्र के सारे रास्ते और पानी के स्त्रोत तक नष्ट कर दिये गए हैं । रामसिंह ने कहा कि निर्माण कंपनी सड़क का निर्माण कार्य अधूरा छोड़ कर भाग गई है जिस कारण पिछले तीन वर्षों में बरसात के दौरान लोगों कि साथ लगती जामीनों और घरों तक को भारी हानि पहुंची है । नए बसाव स्थलों पर विस्थापितों को पानी ,बिजली और रास्तों तथा सड़कों के अभाव में भारी असुविधाओं और कठिनाईयो का सामना करना पड़ा है जबकि उनके रोजगार और ब्यापार पूरी तरह से खत्म हो जाने से उन्हें अपने परिवारों का भरण-पोषण करना कठिन हो रहा है । निर्माण कंपनी सड़क कार्य में लगे कर्मचारियों,मजदूरों और वाहन चालकों तथा ठेकेदारों तक के पैसे दिये बिना ही अपना बोरिया- बिस्तर गोल करके रफूचक्कर हो गई ।
रामसिंह ने कहा कि धूमल को उस दिन समिति द्वारा ज्ञापन देकर उनसे किए गए चुनावी वादों को पूरा करने की मांग करेगी ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here