Home national आश्रय शर्मा की जीत को शांताकुमार तो क्या ,मोदी और शाह...

आश्रय शर्मा की जीत को शांताकुमार तो क्या ,मोदी और शाह भी कोई फर्क नहीं डाल सकते – पंडित सुखराम

51
0
SHARE

जनवक्ता के राजनीतिक संवाददाता की मंडी में पंडित सुखराम से टैलीफोन हुई बातचीत पर आधारित समाचार

पूर्व केंद्रीय संचार मंत्री और मंडी संसदीय सीट पर कांग्रेस के युवा उम्मीदवार आश्रय शर्मा के दादा श्री पंडित सुखराम ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा उनके परिवार पर हर रोज , जहां कहीं भी वे भाषण करते हैं , कथित बेसिर पैर के झूठे और बेबुनियाद आरोपों को रद्द करते हुए कहा है कि इस प्रकार मुख्यमंत्री अपना कीमती समय ब्यर्थ की बातों में उलझ कर बर्बाद कर रहे हैं , जबकि उन्हें वास्तव में चुनाव की इस बेला पर अपने प्राय पिछले डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में मंडी जिला और हिमाचल प्रदेश के लिए किए गए विकास कार्यों और अपनी उपलब्धियों की चर्चा करनी चाहिए | आज यहाँ टेलीफोन पर पंडित सुखराम ने कहा कि मंडी जिला सहित सारे हिमाचल प्रदेश में सड़कों की बहुत ही दुर्दशा है जबकि प्रदेश भर के सभी अस्पतालों में डाक्टरों और पैरा मेडिकल स्टाफ की भारी कमी है , जिस कारण मंडी जिला और हिमाचल की सारी जनता बुरी तरह से हैरान –परेशान और त्रस्त है |किन्तु मुख्यमंत्री को विकास के इन कार्यों की ओर ध्यान दिये जाने की बजाए दिन रात सुखराम परिवार की चिंता सता रही है | पंडित सुखराम का कहना था कि सड़कों का बुरा हाल होने के कारण हिमाचल प्रदेश के लाखों लोगों को पर्यटन उद्योग एलपी भारी धक्का पहुँचने के कारण बहुत आर्थिक हानि उठानी पड़ रही है जबकि मुख्यमंत्री को मंडी की जनता को यह बताने की आवश्यकता नहीं है कि सुखराम और उसका परिवार वास्तव में क्या है \ क्यूँ कि मंडी की जनता बहुत पहले से ही उनके सभी तथ्यों से भली भांति परिचित है| सुखराम का कहना था कि जब जयराम ठाकुर मुख्यमंत्री बने तो उन्हें बधाई देने वालों में वे सबसे पहले व्यक्ति थे और मंडी की सारी जनता में भी भारी खुशी की लहर दौड़ गई थी , किन्तु पिछले सवा साल के कार्यकाल में उन्होने मंडी की जनता को केवल निराश ही किया | क्यूँ कि वे उनकी आक्षाओं और अकाक्षाओं पर खरा नहीं उतर पाये जबकि लोगों ने उनके द्वारा इतना बड़ा पद प्राप्त किए जाने के बाद उन पर जो विश्वास किया था , उसे जयराम ठाकुर ने पूरी तरह से नकार दिया है | पंडित सुखराम का कहना था कि जनता केवल मुख्यमंत्री से ही निराश नहीं है बल्कि वह पिछले पाँच वर्ष तक निरंतर सांसद रहे राम स्वरूप शर्मा से भी पूरी तरह से निराश –हताश हो चुकी है और उनसे अब

यह पूछ रही है कि उन्हें अपने संसदीय क्षेत्र और मंडी जिला के लिए किए गए विकास कार्यों की सूची जनता को बतानी चाहिए | उन्होने कहा कि फील्ड में कोई भी उपलब्धि प्राप्त किए बिना मंचों पर खड़े होकर निवर्तमान सांसद रामस्वरूप शर्मा और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा बड़ी बड़ी डींगे हांकना न तो सोभा ही देता है और न ही उनके पद के अनुरूप ही है | उनका कहना था कि यदि राम स्वरूप ने सांसद के रूप में मंडी जिला और सारे संसदीय क्षेत्र के लिए कुछ किया होता तो उन्हे पौत्र आश्रय शर्मा को चुनाव में खड़ा करने की जरूरत महशूस नहीं होती | किन्तु जब यह प्रमाणित हो गया कि रामस्वरूप इस संसदीय क्षेत्र के लिए उपयुक्त सांसद सिद्ध नहीं हुए हैं ,तभी उन्होने आश्रय शर्मा जैसे युवा को उनके विरुद्ध फील्ड में उतारा है , ताकि इस क्षेत्र को व्यर्थ के दावे करने वालों से मुक्ति मिल सके |शांता कुमार द्वारा उन पर किए जा रहे राजनैतिक हमलों बारे पूछे जाने पर सुखराम ने केवल इतना कहा कि वे भाजपा के एक वरिष्ट नेता हैं और उनका सम्मान करते हैं ,किन्तु अकारण मुझ पर नितांत झूठे कारणों और बेबुनियाद सूचनाओं के आधार पर हमले करना उन जैसे नेताओं को शोभा नहीं देता है और उनसे तो केवल इतना ही जानना चाहते हैं कि उनके जैसे भाजपा के आधार स्तम्भ नेताओं का टिकट शाह और मोदी ने क्यूँ काट दिया ? जबकि इस समय पार्टी को उनके अनुभव का लाभ उठाना चाहिए था| शांता के उस कथन कि वे मंडी सीट में आकर चुनाव प्रचार करेंगे , पर सुखराम ने कहा कि यह तो देवताओं की धरती है यहाँ पर शांता कुमार का भी अमित शाह और मोदी की तरह स्वागत होगा , किन्तु न ही मोदी और न अमित शाह ही आश्रय शर्मा की विजय में कोई अंतर ही पा सकेंगे तो फिर शांता कुमार भी क्या कर लेंगे ? पंडित सुखराम ने कहा कि शांता कुमार की बातों का वे चुनाव के बाद एक एक करके उतर देंगे और निश्चय ही उन्हें आईना दिखाएंगे | उन्होने कहा कि मैं निश्चय ही आश्रय शर्मा को कांग्रेस पार्टी के सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं के सहयोग –समर्थन से मंडी सीट पर विजयश्री दिलवाऊंगा और आज जो लोग मुझे और मेरे परिवार पर आक्षेप कर रहे हैं उन्हें बगलें झाँकने को विवश कर दूंगा | अंत में सुखराम ने कहा कि वे वास्तव में मुख्यमंत्री की इस समय के दुविधा को समझते हैं,क्यूँ कि जब मुख्यमंत्री ने कुछ किया ही नहीं है तो लोगों को बताएँगे भी क्या ? बस इधर उधर की बातों में समय निकाल रहे हैं |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here