Home national अन्तरिम बजट मोदी सरकार की डूबती हुई नैय्या को बचाने का असफल...

अन्तरिम बजट मोदी सरकार की डूबती हुई नैय्या को बचाने का असफल प्रयास : बम्बर ठाकुर

247
0
SHARE

जनता इस बार भाजपा का करेगी सूपड़ा साफ


जनवक्ता डेस्क, बिलासपुर

पूर्व विधायक और प्रमुख कांग्रेस नेता बंबर ठाकुर ने कहा है कि जिस अन्तरिम बजट के मसौदे से मोदी सरकार अपनी 2019 के चुनावों की डूबती हुई नैय्या को बचाने का असफल प्रयास कर रहे हैं। वह अब किसी भी सूरत में बचने वाली नहीं है और शीघ्र ही वह लोगों के महान विरोध के समुद्र में समा जाएगी। आज यहाँ पत्रकारों से बातचीत करते हुए और अन्तरिम वित्त मंत्री पीयूष गोयल द्वारा तथा कथित अन्तरिम बजट प्रस्तुत करने पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बंबर ठाकुर ने कहा कि समझ नहीं आता कि कांग्रेस पार्टी के विरुद्ध हाल ही के तीन बड़े राज्यों के चुनावों में करारी हार खाने के बाद भी भाजपा के नीति निर्धारकों को समझ नहीं आई है और वे आज भी आम सभाओं में और धन तथा सत्ता के बल पर इकठी की गई लोगों की तालियाँ पीटने वाली रैलियों में अपनी किसी काल्पनिक कथित भावी विजय की बड़ी बड़ी डींगें हाँकते घूम रहे हैं और ऐसा लगता है कि राज्यों के चुनाव में करारी हार का

झटका लगने क के बाद भाजपा नेता अपना आत्म विश्वास ही पूरी तरह से खो बैठे हैं और केवल मात्र स्वयं को संतोष देने के लिए देश की धरातल की वास्तविकता को देखने से ही इंकार कर रहे हैं। ठाकुर ने कहा कि भाजपा ने यह अन्तरिम बजट तो पेश किया है इस नियत से कि इससे उसे कोई चुनावी लाभ मिलने वाला है। किन्तु वास्तविकता यह है कि यह बजट अब स्पष्ट कर देता है कि मोदी और भाजपा के पास अब देश को देने के लिए और इसके करोडों लोगों के विभिन्न वर्गों कि दयनीय दशा को सुधारने के लिए कोई भी ठोस योजना नहीं है। पूर्व कांग्रेसी विधायक का कहना था कि यह बजट स्पष्ट संकेत देता है कि भाजपा के पास अब न तो देश के करोड़ों मजदूरों और करोड़ों बेरोजगार युवक युवतियों तथा करोड़ों किसानों की समस्याएँ और कठिनाइयाँ सुलझाने के लिए कोई भी महत्वाकांक्षी योजना नहीं है। बल्कि केवल मात्र इधर उधर कुछ टांके लगा कर इस सड़े-गले सरकारी लबादे को किसी न किसी तरह चलाये रखने की योजनाएँ बनाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि देश की जनता अब सब कुछ समझ गई है और इस बार के चुनाव में भाजपा का साफ होना निश्चित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here